Alone Sad Shayari in Hindi | अलोन सैड शायरी हिंदी

Spread the love

In this page you will read Alone Sad Shayari, Painful Alone Sad Shayari, Alone shayari, Feeling Alone Shayari in hindi, Alone sad shayari 2 line, alone shayari Attitude, zindagi alone shayari etc…

Alone Sad Shayari

Alone Sad Shayari, alone Shayari

तन्हाइयों के साथ, मेरा हर एक गम सजने लगा है…
अब ये मेरा अकेलापन, मुझे अच्छा लगने लगा है…
Tanhaiyon ke saath, mera har ek gam sajne laga hai…
Ab ye mera akelapan, mujhe achchha lagne laga hai…

Alone sad shayari

मुझमें गम भी बहोत हैं, खुशियां भी कम नहीं हैं…
मैं अकेला जरूर हूं, पर इस बात का मुझे कोई गम नहीं है…
Mujhmen gam bhi bahot hain, khushiyaan bhi kam nahin hain…
Main akela jaroor hun, par is baat ka mujhe koi gam nahin hai…

Alone sad shayari

मैं अपने गम, अपनी खुशियां, अपने साथ रखता हूं…
तन्हा नहीं हूं मैं, अपने साथ बहोत खुश रहता हूं…
Main apne gam, apni khushiyan, apne saath rakhta hun…
Tanha nahin hun main, apne saath bahot khush rahta hun…

Alone sad shayari

मैं जमाने से नहीं लड़ सकता, बस अपने आप से लड़ रहा हूं…
किसी और की मुझे जरूरत नहीं है, मैं अपने सहारे खड़ा हो रहा हूं…
Main jamane se nahin lad sakta, bas apne aap se lad raha hun…
Kisi aur ki mujhe jarurat nahin hai, main apne sahare khada ho raha hun…

Alone sad shayari

गम जितने भी मिलेंगे, मैं सब सह लूंगा…
अब तक अकेले रहा हूं, आगे भी रह लूंगा…
Gam jitne bhi milenge, main sab sah lunga…
Ab tak akele raha hun, aage bhi rah lunga…

Alone Sad Shayari In Hindi

Alone Sad Shayari, alone shayari

निकलने में वक्त लगता है, तन्हाइयों का एक बड़ा सा शहर है…
अकेले रहना सबके बस की बात नहीं है, अकेले रहना एक हुनर है…
Nikalne mein vakt lagta hai, tanhaiyon ka ek bada sa shahar hai…
Akele rahna sabke bas ki baat nahin hai, akele rahna ek hunar hai…

Alone sad shayari

मैं अपने साथ खड़ा हूं, बस अपने साथ ही रहता हूं… रिश्ते खत्म होते हैं तो मुझे तकलीफ होती है, इसलिए अकेला रहता हूं…
Main apne saath khada hun, bas apne saath hi rahta hun…
Rishte khatm hote hain to mujhe takaleef hoti hai, isalie akele rahta hun…

तुम कहो, इसमें तुम्हारी क्या रजा है…
मैं सच कहूं, तो अकेले रहने का अपना ही मजा है…
Tum kaho, isamen tumhari kya raja hai…
Main sach kahun, to akele rahne ka apana hi maja hai…

Alone sad shayari

मैं अकेला रहना सीख गया हूं, कोई किसी के सहारे कब तक चलेगा…
जिंदगी के किसी न किसी मोड़ पर, हर शख्स को अकेले रहना पड़ेगा…
Main akela rahna seekh gaya hun, koi kisi ke sahaare kab tak chalega…
Zindagi ke kisi na kisi mod par, har shakhs ko akele rahna padega…

Alone sad shayari

मैं सब को नहीं जानता, पर वो लोग मुझे सच्चे लगते हैं…
मैं अकेला रहता हूं, मुझे अकेले रहने वाले लोग अच्छे लगते हैं…
Main sab ko nahin jaanata, par vo log mujhe sachche lagte hain…
Main akela rahta hun, mujhe akele rahne vaale log achchhe lagte hain…

Zindagi Alone Shayari

Alone Sad Shayari

मैं अपनी गलतियों से, हर बार सीख लेता हूं…
अकेला रहता हूं तो वक्त मिल जाता है, और उन्हें ठीक कर लेता हूं…
Main apani galatiyon se, har baar seekh leta hun…
Akela rahta hun to vakt mil jaata hai, aur unhen theek kar leta hun…

Alone sad shayari

मैं अगर ये जंग हार भी गया, तो आईने में खुद को देख पाऊंगा…
पर आज किसी और के सहारे चलूंगा, तो कल खुद से नजरें नहीं मिला पाऊंगा…
Main agar ye jang haar bhi gaya, to aaine mein khud ko dekh paunga…
Par aaj kisi aur ke sahare chalunga, to kal khud se najaren nahin mila paunga…

Alone sad shayari

मैं हारा नहीं हूं, अभी बाकी मुझ में मेरा जुनून है…
किसी और की चाह नहीं है मुझे, मेरा अकेलापन मेरा सुकून है…
Main haara nahin hun, abhi baaki mujh mein mera junun hai…
Kisi aur ki chaah nahin hai mujhe, mera akelapan mera sukun hai…

Alone sad shayari

अपनी हस्ती खेलती दुनिया को, मैं बर्बाद नहीं करता…
खामोशियां पसंद है मुझे, मैं ज्यादा आवाज नहीं करता…
Apani hasti khelti duniya ko, main barbaad nahin karta…
Khamoshiyaan pasand hai mujhe, main jyaada aavaaj nahin karta…

Alone sad shayari

उजालों से पहले, मुझे अपने लिए अंधेरी रात चाहिए…
और जो उम्र भर साथ रह सकें, मुझे बस उनका साथ चाहिए…
Ujaalon se pahle, mujhe apane lie andheri raat chaahie…
Aur jo umr bhar saath rah saken, mujhe bas unka saath chaahie…

Painful Alone Sad Shayari in Hindi

Alone Sad Shayari, alone shayari

अब ये मेरा अकेलापन, साथ मेरे उम्र भर है…
ना किसी को पाने की जिद है, ना किसी को खोने का कोई डर है…
Ab ye mera akelapan, saath mere umr bhar hai…
Na kisi ko paane ki jid hai, na kisi ko khone ka koi dar hai…

Alone sad shayari

ख्वाहिशें मेरी कभी मुझे हंसाती हैं, तो कभी रुला देती हैं…
और ये तनहाइयां मुझे चुभती नहीं है, बल्कि मुझे कुछ सिखा देती हैं…
khwahishen meri kabhi mujhe hansati hain, to kabhi rula deti hain…
Aur ye tanhaiyan mujhe chubhati nahin hai, balki mujhe kuchh sikha deti hain…

Alone sad shayari

हालात मेरे कितने ही बुरे क्यों ना हो, खुद को मैं संभाल लूंगा…
जब तक मेरी जिंदगी मुझे इजाजत देगी, मैं अपनी जिंदगी अपने साथ गुजार लूंगा…
Halaat mere kitane hi bure kyon na ho, khud ko main sambhaal lunga…
Jab tak meri jindagi mujhe ijaajat degi, main apani jindagi apne saath gujaar lunga…

Alone sad shayari

वो सफर में हम सफर बन के हमारे साथ आते हैं…
फिर हमारी हंसती खेलती जिंदगी को बर्बाद कर जाते हैं…
Vo safar mein ham saphar ban ke hamare saath aate hain…
Phir hamari hansati khelati jindagi ko barbaad kar jaate hain…

अँधेरी रातों में, वो मुझे अपना हाथ देती हैं…
हां मेरी तन्हाईयां मेरा हमेशा साथ देती हैं…
Andheri raaton mein, vo mujhe apna haath deti hain…
Haan meri tanhaiyaan mera hamesha saath deti hain…

अलोन शायरी इन हिंदी

Alone Sad Shayari, alone shayari

बस कुछ पल के लिए, जमाने को खुद से दूर कर देना चाहिए…
मैंने अपने आप से बहुत कुछ सीखा है, तुम्हें भी एक बार अकेले रह के देख लेना चाहिए…
Bas kuchh pal ke lie, jamane ko khud se door kar dena chaahie…
Maine apane aap se bahut kuchh seekha hai, tumhen bhi ek baar akele rah ke dekh lena chaahie…

Alone sad shayari

वो खुद पर भरोसा नहीं करते, जो भीड़ के साथ जाते हैं…
और जो अपने साथ जीना सीख लेते हैं, वो हर जगह अपने साथ जाते हैं…
Vo khud par bharosa nahin karte, jo bheed ke saath jaate hain…
Aur jo apne saath jeena seekh lete hain, vo har jagah apne saath jaate hain…

Alone sad shayari

जिंदगी जहां ले जाती है, खुद को हम उसमें डाल देते हैं…
तकलीफें हमारे पास भी हैं, बस हम हंस के टाल देते हैं…
Zindagi jahan le jaati hai, khud ko ham usamen daal dete hain…
Takaleefen hamare paas bhi hain, bas ham hans ke taal dete hain…

Alone sad shayari

मेरी कुछ ख्वाहिशें बहुत छोटी हैं, तो वहीं कुछ ख्वाहिशें खयालों से बहोत बड़ी हैं…
अकेले रहकर मैं अपने आप को समझ रहा हूं, जमाने को समझने के लिए पूरी जिंदगी पड़ी है…
Meri kuchh khwahishen bahut chhoti hain, to vahin kuchh khwahishen khayaalon se bahot badi hain…
Akele rahkar main apne aap ko samajh raha hun, jamane ko samjhne ke lie poori zindagi padi hai…

Alone sad shayari

वो साथ रहने का दिखावा करते हैं, असल में किसी का किसी पे हाथ नहीं है…
बस कहने को सब साथ हैं, पर कोई किसी के साथ नहीं है…
Vo saath rahne ka dikhaava karte hain, asal mein kisi ka kisi pe haath nahin hai…
Bas kahne ko sab saath hain, par koi kisi ke saath nahin hai…

Alone Shayari Attitude

अपनी हालातों का मैं खुद जिम्मेदार हूं, इसमें किसी और का कोई कसूर नहीं है…
खुद में रहने के बाद मुझे हार मिले या जीत, मुझे दोनों ही मंजूर है…
Apani haalaton ka main khud jimmedaar hun, isamen kisi aur ka koi kasoor nahin hai…
Khud mein rahne ke baad mujhe haar mile ya jeet, mujhe donon hi manjoor hai…

जो वक्त बिताया है मैंने उनके साथ, वो हर एक पल मेरे साथ रहेगा…
कल छोड़ के जाने वाले, अगर आज छोड़ के जाएंगे तो और अच्छा रहेगा…
Jo vakt bitaya hai maine unake saath, vo har ek pal mere saath rahega…
Kal chhod ke jaane vaale, agar aaj chhod ke jaenge to aur achchha rahega…

कभी बेघर करता है, कभी रहने को छत बनाता है…
अपने आप में रहना, मुझे बहुत कुछ सिखाता है…
Kabhi beghar karta hai, kabhi rahane ko chhat banata hai…
Apne aap mein rahna, mujhe bahut kuchh sikhata hai..

अकेले जीने का हुनर सीख लो, वरना खुद से एक दिन रूठ जाओगे…
जिस दिन ये भीड़ तुम्हारा साथ छोड़ेगी, तुम अंदर से टूट जाओगे…
Akele jeene ka hunar seekh lo, varna khud se ek din rooth jaoge…
Jis din ye bheed tumhaara saath chhodegi, tum andar se toot jaoge…

मेरा हर एक गम, मुझे खुशियां बनाने को कह रहा है…
और ये मेरा अकेलापन, मुझे मेरी पहचान दे रहा है…
Mera har ek gam, mujhe khushiyaan banane ko kah raha hai…
Aur ye mera akelapan, mujhe meri pahchaan de raha hai…

Alone Shayari 2 line

तुम नहीं पता कर सकते हो, के कौन कितना सच्चा है…
पर अगर तुम लोगों से दूर रहते हो, तो तुम्हारे लिए ये अच्छा है…
Tum nahin pata kar sakate ho, ke kaun kitna sachcha hai…
Par agar tum logon se door rahte ho, to tumhaare lie ye achchha hai…

जो साथ हैं मेरे, वो मेरे साथ रह सकते हैं…
और जो मुझसे दूर जाना चाहते हैं, वो जा सकते हैं…
Jo saath hain mere, vo mere saath rah sakte hain…
Aur jo mujhse door jaana chaahate hain, vo ja sakte hain…

जो गिर गया है, उसे उठने के लिए बेशक तुम अपना हाथ दो…
पर अगर कोई तुम्हारा साथ नहीं दे रहा है, तो तुम अपना साथ दो…
Jo gir gaya hai, use uthne ke lie beshak tum apna haath do…
Par agar koi tumhara saath nahin de raha hai, to tum apna saath do…

मैं अकेला अगर उलझ भी गया, तो सुलझ जाऊंगा… पर किसी के साथ रह के अगर टूट गया, तो फिर बिखर जाऊंगा…
Main akela agar ulajh bhi gaya, to sulajh jaunga…
Par kisi ke saath rah ke agar toot gaya, to phir bikhar jaunga…

जिस रिश्ते के लिए हम अपना सब कुछ दांव पर लगाते हैं …
मतलब पूरा होते ही, न जाने क्यूं वो लोग हमें छोड़ जाते हैं…
Jis rishte ke lie ham apna sab kuchh daanv par lagate hain…
Matlab poora hote hi, na jane kyu vo log hamen chhod jaate…

अलोन शायरी

क्या फर्क पड़ता है, किसे कौन सच्चा लगता है…
मेरा अकेला होना, अब मुझे तो बहोत अच्छा लगता है…
Kya fark padata hai, kise kaun sachcha lagta hai…
Mera akela hona, ab mujhe to bahot achchha lagata hai…

उसे अपना बनाने के लिए, वो उसके आगे झुका होगा…
जो आज अकेला है, वो भी कभी किसी के लिए रुका होगा…
Use apna banane ke lie, vo usake aage jhuka hoga…
Jo aaj akela hai, vo bhi kabhi kisi ke lie ruka hoga…

मुझे लगता है, बस अपने मतलब से लोग साथ देते हैं…
तुम बताओ, क्या साथ रह के लोग तुम्हारा साथ देते हैं…
Mujhe lagta hai, bas apne matalab se log saath dete hain…
Tum batao, kya saath rah ke log tumhara saath dete hain…

कौन कैसा है, मैं इन खयालों से खुद को दूर रखता हूं…
जहां खुद को पूरा देखता हूं, खुद को बस वहीं रखता हूं…
Kaun kaisa hai, main in khayaalon se khud ko door rakhta hun…
Jahaan khud ko poora dekhta hun, khud ko bas vahin rakhta hun…

तकलीफे हर किसी को छू रही हैं,
कुछ सबको बताते हैं, कुछ सबसे छुपा लेते हैं…
Takaleefe har kisi ko chhoo rahi hain,
Kuchh sabko batate hain, kuchh sabse chhupa lete hain…

हर किसी को मुझसे, कोई उम्मीद है…
हजारों गम हैं मुझमें, फिर भी सब ठीक है…
Har kisi ko mujhse, koi ummeed hai…
Hajaaron gam hain mujhmen, phir bhi sab theek hai…


Spread the love

Leave a Comment