Dard Bhari Shayari in Hindi | हिंदी दर्द भरी शायरी

Spread the love

In this page you will read dard bhari shayari, dard bhari shayari Status, हिंदी दर्द भरी शायरी, Dard Shayari in Hindi etc…

Dard Bhari Shayari

Dard bhari shayari

किसी और से रिश्ते जोड़ के, तुमने मुझसे नाता तोड़ लिया…
और अब ये इल्जाम तुम मुझपे लगा रहे हो, के मैंने तुम्हें छोड़ दिया…
Kisi aur se rishte jod ke, tumne mujhse naata tod liya…
Aur ab ye iljaam tum mujhpe laga rahe ho, ke maine tumhen chhod diya…

उसे पसंद नहीं था, फिर भी मैं अपने दिल का राज उसके सामने खोलता रहा…
वो मुझसे प्यार नहीं करती उसने बोला था, पर खुद से मैं हमेशा झूठ बोलता रहा…
Use pasand nahin tha, phir bhi main apne dil ka raaj usake saamane kholta raha…
Vo mujhse pyaar nahin karati usane bola tha, par khud se main hamesha jhooth bolta raha…

Dard bhari shayari

मुझे वही मिला है, जो मेरे हक़ में था…
शायद ना वो मेरी यादों में थी, ना मैं उसके सजदे में था…
Maine vahi mila hai, jo mere haq mein tha…
Shaayad na vo meri yaadon mein thi, na main uske sajde mein tha…

जो इश्क़ पूरा हो सकता था, उसे तुमने आधा किया है…
खुशियाँ मैंने तुम्हें ठीक दी थी, गम तुमने मुझे ज्यादा दिया है…
Jo ishq poora ho sakta tha, use tumne aadha kiya hai…
Khushiyaan mane tumhen theek di thi, gam tumne mujhe jyaada diya hai…

Dard bhari shayari

तुम्हें मोहब्बत थी मुझसे, और मैंने तुम्हारा दिल तोड़ दिया…
तो फिर रहते न कुछ दिन मेरी तरह, किसी और से रिश्ता क्यों जोड़ लिया…
Tumhen mohabbat thi mujhse, aur maine tumhara dil tod diya…
To phir rahte na kuchh din meri tarah, kisi aur se rishta kyon jod liya…

साथ रहना नहीं था, तो इतने करीब आना नहीं चाहिए था…
और आके जिस तरह गए हो, उस तरह तुम्हें जाना नहीं चाहिए था…
Saath rahana nahin tha, to itane kareeb aana nahin chaahie tha…
Aur aake jis tarah gae ho, us tarah tumhen jaana nahin chaahie tha…

Dard Bhari Shayari Status

Dard bhari shayari

मेरे खतों को जला देना, अब किसी और का लिखा लेख लेना…
मेरी तरफ से सब ख़तम हो चुका है, तुम अपनी तरफ से देख लेना…
Mere khaton ko jala dena, ab kisee aur ka likha lekh lena…
Meeri taraf se sab khatam ho chuka hai, tum apani taraf se dekh lena…

जिसे खुद से ज्यादा चाहा, उसी को मैंने खो दिया…
वो गम जो कभी लिपटा नहीं, आज सीने से लग के रो दिया…
Jise khud se jyaada chaaha, usee ko maine kho diya…
Vo gam jo kabhee lipta nahin, aaj seene se lag ke ro diya…

Dard bhari shayari

वो कभी आए ही नहीं, जिनका हम इंतजार कर रहे थे…
ये अब जाके समझ आया है, के गलत इंसान से प्यार कर रहे थे…
Vo kabhi aae hi nahin, jinka ham intjaar kar rahe the…
Ye ab jaake samajh aaya hai, ke galat insaan se pyaar kar rahe the…

हम इस दिल को अब बेकरार नहीं करते,
पर ऐसा नहीं है के तुमसे प्यार नहीं करते…
अब खुद में रहना की आदत सी हो गई है
किसी से जज्बातों का इजहार नहीं करते…
Ham is dil ko ab bekraar nahin karte,
Par aisa nahin hai ke tumse pyaar nahin karte…
Ab khud mein rahana kee aadat see ho gaee hai
Kisi se jajbaaton ka ijhaar nahin karte

Dard bhari shayari

सालों गुज़ार दिए इनके इंतजार में,
फिर भी उन्हें मेरी मोहब्बत सच्ची नहीं लगी…
मैं उन्हें बाकी सबसे दूर रहने को बोलता था,
शायद यही बात उन्हें मेरी अच्छी नहीं लगी…
Saalon guzaar die unake intajaar mein,
Phir bhi unhen meree mohabbat sachchi nahin lagi…
Main unhen baaki sabse door rahne ko bolata tha,
Shaayad yahi baat unhen meri achchhi nahin lagi…

Dard Bhari Shayari in Hindi

Dard bhari shayari

चाह के भी खुद से दूर नहीं कर सकता, हर एक पल मेरे इतने पास होता है…
काश तुम्हें भी ये अहसास होता, के मुझे कैसा अहसास होता है…
Chaah ke bhee khud se door nahin kar sakata, har ek pal mere itne paas hota hai…
Kaash tumhen bhi ye ahasaas hota, ke mujhe kaisa ahsaas hota hai…

जिन रास्तों पे तुम्हारे ख्वाब देखता था, वो रास्ते पीछे छूट चुके हैं…
तुम्हें लेके मेरे मन में जो वहम था, वो वहम अब टूट चुके हैं…
Jin raaston pe tumhare khwaab dekhta tha, vo raaste peechhe chhoot chuke hain…
Tumhen leke mere man mein jo vaham tha, vo vaham ab toot chuke hain..

Dard bhari shayari

उन लम्हों को फिर हम उम्र भर संभाल के रखते…
तेरे साथ पल तो पल खुशी के अगर गुजार सकते…
Un lamhon ko phir ham umr bhar sambhaal ke rakhte…
Tere saath pal to pal khushi ke agar gujaar sakte…

Dard bhari shayari

ये तुम खुद ही बता दो, तुम मुझसे क्या चाहते हो…
फिर मैं भी अपने लिए प्यार चाहता हूं, तुम मुझसे अगर प्यार चाहते हो…
Ye tum khud hi bata do, tum mujhse kya chaahate ho…
Phir main bhi apne lie pyaar chaahata hun, tum mujhse agar pyaar chaahate ho…

मैं तुमसे कितना भी दूर रहूं, मेरी चाहतें तुम्हीं को आवाज़ देती हैं…
मुझे तकलीफ ना देने के लिए जो करते हो, वही मुझे सबसे ज्यादा तकलीफ देती हैं…
Main tumse kitana bhee door rahun, meri chaahaten tumheen ko aavaaz deti hain…
Mujhe takleef na dene ke lie jo karate ho, vahi mujhe sabse jyaada takaleef deti hain…

दर्द भरी शायरी

Dard bhari shayari

तुमसे अलग होके जीना पड़ रहा है, कहीं जान न निकल जाए…
हम तुमसे पहले से ही दूरियां बना के रखते, तुम ऐसे पेश क्यूँ नहीं आए…
Tumse alag hoke jeena pad raha hai, kaheen jaan na nikal jae…
Ham tumse pahale se hee duriyaan bana ke rakhte, tum aise pesh kyun nahin aae…

मैं कोई दूसरा ख्वाब नहीं सजाऊँगा, तुम्हारे बाद…
देखना तुम्हें भी मेरी याद आएगी, मेरे जाने के बाद…
Main koi dusara khwaab nahin sajaunga, tumhare baad…
Dekhna tumhen bhi meri yaad aaegi, mere jaane ke baad…

Dard bhari shayari

उन्हें फासलों से फर्क नहीं पड़ता, जिनका प्यार सच्चा होता है…
पर बिछड़ने से पहले, एक बार मिल लेना अच्छा होता है…
Unhen fasalon se fark nahin padta, jinaka pyaar sachcha hota hai…
Par bichhadne se pahale, ek baar mil lena achchha hota hai…

क्यूँ तोड़ दिया वो ख्वाब, जिन्हें बड़े प्यार से सजाया करते थे…
जो हमेशा मेरे साथ खड़ा रहेगा, खुद को वो शख्स क्यूँ बताया करते थे…
Kyun tod diya vo khwaab, jinhen bade pyaar se sajaaya karate the…
Jo hamesha mere saath khada rahega, khud ko vo shakhs kyun bataaya karate the…

Dard bhari shayari

शायद कल ऐसा ना हो, जैसा मेरा आज है…
माना वो मुझे मिला नहीं, पर अपनी मोहब्बत पे मुझे नाज है…
Shaayad kal aisa na ho, jaisa mera aaj hai…
Maana vo mujhe mila nahin, par apani mohabbat pe mujhe naaj hai…

कभी थी मोहब्बत तुमसे, इस बात से मैं इंकार नहीं करूँगा…
जानता हूं तुम्हें भुलाना मुश्किल है, पर मैं पूरी कोशिश करूँगा…
Kabhi thi mohabbat tumse, is baat se main inkaar nahin karunga…
Jaanata hoon tumhen bhulaana mushkil hai, par main poori koshish karunga…

2 लाइन दर्द भरी शायरी

सब इशारों से कहते हो, क्या लब्जों से नहीं कह सकते…
जैसे बाकी लोग रहते हैं, क्या हम ऐसे क्यूँ नहीं रह सकते…
Sab ishaaron se kahte ho, kya labjon se nahin kah sakate…
Jaise baaki log rahte hain, ham aise kyun nahin rah sakte…

मेरी खुशियाँ देख के, हर कोई जल रहा था…
जब तक तू साथ था, सब ठीक चल रहा था…
Meri khushiyaan dekh ke, har koi jal raha tha…
Jab tak tu saath tha, sab theek chal raha tha…

ना तू गलत है, ना मैं गलत हूँ…
बस तू मुझसे अलग, मैं तुझसे अलग हूँ…
Na tu galat hai, na main galat hoon…
Bas tu mujhse alag, main tujhase alag hoon…

मैं भी खुद को बदल सकता था, जो तुमने किया मैं भी कर सकता था…
मुझे आदत हो गई थी तुम्हारे साथ वक्त बिताने की, फिर जिस हाल में तुमने मुझे छोड़ा, मैं मर सकता था…
Main bhi khud ko badal sakta tha, jo tumane kiya main bhee kar sakta tha…
Mujhe aadat ho gayi thi tumhare saath vakt bitaane ki, phir jis haal mein tumane mujhe chhoda, main mar sakta tha…

तुमसे मोहब्बत करना, मेरी भूल नहीं थी…
तुम्हें इंकार कर देना चाहिए था, जब कबूल नहीं थी…
Tumse mohabbat karna, meri bhool nahin thi…
Tumhen inkaar kar dena chaahie tha, jab kabool nahin thee…

पीछे मुड़कर देखा तो फिर वही पुरानी बात मिली…
जहां कभी जन्नत देखता था, वहां सिर्फ अंधेरी रात मिली…
Peechhe mudkar dekha to phir vahee purani baat milee…
Jahaan kabhi jannat dekhta tha, vahaan sirf andheri raat milee…

Shayari On Dard

न जाने कितने साल गुजर गए, ठीक से कुछ याद नहीं है…
जो हमें फिर से जोड़ सके, अब हमारे होठों पे ऐसी कोई बात नहीं है…
Na jaane kitne saal gujar gae, theek se kuchh yaad nahin hai…
Jo hamen phir se jod sake, ab hamare hothon pe aisi koi baat nahin hai…

वो हमेशा मेरा साथ देगा, उसने मुझसे कहा था…
मैं भी उसके साथ जीना चाहता था, क्योंकि उसके बगैर कभी रहा था…
Vo hamesha mera saath dega, usane mujhse kaha tha…
Main bhi uske saath jeena chaahata tha, kyunki usake bagair kabhi raha tha…

सब कुछ पीछे छोड़ दिया, मोहब्बत की राह पे उतरा हूं मैं…
मेरे अपने मेरे खिलाफ खड़े हैं, जबसे तेरी गली से गुजरा हूं मैं…
Sab kuchh peechhe chhod diya, mohabbat ki raah pe utara hoon main…
Mere apne mere khilaaf khade hain, jabse teri gali se gujra hoon main…

किसी चीज की कमी ना हो, पास तेरे सब कुछ रहे…
मैं हमेशा यही दुआ करूँगा, तू जहां कहीं भी रहे खुश रहे…
Kisi cheej kee kamee na ho, paas tere sab kuchh rahe…
Main hamesha yahee dua karunga, too jahaan kaheen bhi rahe khush rahe…

अपनी मोहब्बत को मैं पूरा कर नहीं पाया…
जिसके साथ जीना चाहता था, उसके बगैर मुझे रहना नहीं आया…
Apni mohabbat ko mai poora kar nhi paya..
Jiske sath jeena chahta tha, uske bagair mujhe rahna nhi aaya…

पल भर में सब तबाह हो गया, खुद को फिर संभाल ना पाया…
उसने मुझे दिल से निकल दिया, मैं उसे इस दिल से निकाल ना पाया…
Pal bhar mein sab tabaah ho gaya, khud ko phir sambhaal na paaya…
Usne mujhe dil se nikal diya, main use is dil se nikaal na paaya…

हिंदी दर्द भरी शायरी

उनकी मोहब्बत को हम अपना ईमान मानते थे…
हमें सिर्फ उनसे मोहब्बत थी, वो ये बात जानते थे…
Unki mohabbat ko ham apna emaan maante the…
Hamen sirf unse mohabbat thi, vo ye baat jaanate the…

मैं अपनी सारी खुशियों को उसके चेहरे पर देखा करता था…
उसे कभी मुझसे प्यार नहीं था, पर मैं तो एक उसी से प्यार करता था…
Main apani saari khushiyon ko uske chehare par dekha karta tha…
Use kabhi mujhse pyaar nahin tha, par main to ek usi se pyaar karta tha…

सब कुछ अधूरा ही है, कुछ पूरा ना कर सका…
जब उसने दूर जाने को कहा, मैं इनकार भी ना कर सका..
Sab kuchh adhura hi hai, kuchh poora na kar saka…
Jab usne door jaane ko kaha, main inkaar bhi na kar saka…

उसके चेहरे पे मेरी खुशियां, मुझे आज भी नजर आती हैं…
मैं अपनी चाहती को संभालता हूं, पर संभल नहीं पाती हैं…
Uske chehare pe meree khushiyaan, mujhe aaj bhi najar aati hain…
Main apni chaahti ko sambhalata hun, par sambhal nahin paati hain…

एक उसे अपना बनाना चाहता था, तो किसी और के करीब नहीं गया…
जबसे वो किसी और का हुआ है, तब से मैं भी उसके करीब नहीं गया…
Ek use apna banana chaahta tha, to kisee aur ke kareeb nahin gaya…
Jabse vo kisi aur ka hua hai, tab se main bhi usake kareeb nahin gaya…

एक तू है जो खुशियाँ छोड़ के जा रहा है…
एक मैं हूँ जो टूट के भी मुस्कुरा रहा हूँ…
Ek tu hai jo khushiyaan chhod ke ja raha hai…
Ek main hoon jo toot ke bhi muskura raha hoon…

Dard Shayari in Hindi

सुना है कोई और भी बैठा है तुम्हारे इंतजार में…
चलो अब मैं भी जान सकूंगा, कितना दम है किसी रकीब के प्यार में…
Suna hai koi aur bhi baitha hai tumhare intjaar mein…
Chalo ab main bhi jaan sakunga, kitna dam hai kisi rakeeb ke pyaar mein…

न मैं हारा, न ही तुम जीते, आँखों से आंसू बहे इतने गम नहीं पीते…
और खुश हूं मैं के तुम खुश हो, तुम्हारी यादों के सहारे अब नहीं जीते…
Na main haara, na hee tum jeete, aankhon se aansu bahe itane gam nahin peete…
Aur khush hoon main ke tum khush ho,
tumhari yaadon ke sahaare ab nahin jeete…

जिन्हें कभी अपना बनाना चाहते थे, आज भी उन्हीं की बातें करते हैं…
वो किसी और के साथ खुश रहते हैं, हम खांमखा अपनी आँखें भरते हैं…
Jinhen kabhi apna banana chaahate the, aaj bhi unheen kee baaten karte hain…
Vo kisi aur ke saath khush rahte hain, ham khammakha apni aankhen bharte hain…

कभी खोना नहीं चाहता था, पर कभी तुझे पाया ही नहीं मैंने…
तेरे बाद भी कई ख्वाब मिले थे, पर उन्हें कभी सजाया ही नहीं मैंने…
Kabhi khona nahin chahta tha, par kabhee tujhe paaya hi nahin maine…
Tere baad bhi kaee khwaab mile the, par unhen kabhi sajaaya hee nahin maine…

टूट गए हैं जो ख्वाब, वो अब फिर नहीं खिलेंगे…
हम यहीं से रास्ते मोड़ लेंगे, तो शायद फिर नहीं मिलेंगे…
Toot gae hain jo khwaab, vo ab phir nahin khilenge…
Ham yahin se raaste mod lenge, to shaayad phir nahin milenge..

मुझमें मेरे रूह की

वो मुझमें मेरे रूह की तरह था, जिसे चाह कर भी खुद से मैं कभी निकाल नहीं पाया…
और उससे दूर जाने से मैं डरता था, शायद इस लिए वोे कभी मेरे करीब ही नहीं आया…
Vo mujhmen mere rooh ki tarah tha, jise chaah kar bhi khud se main kabhi nikaal nahin paaya…
Aur usse door jaane se darta tha mai, shayad isiliye vo kabhi mere kareeb nhi aaya…

मेरा दर्द जब मेरे सीने से लग के रोता है…
उस लम्हें में कोई और नहीं, बस तू ही साथ होता है…
Mera dard jab mere seene se lag ke rota hai
Us lamhe men koi aur nhi, bas tu hi sath hota hai

मैं कुछ नहीं भुला पाया, सब आँखों के पास होता है…
क्या तुम्हें भी महसूस होता है, जो मुझे अहसास होता है…
Main kuchh nahin bhula paaya, sab aankhon ke paas hota hai…
Kya tumhen bhi mahsoos hota hai, jo mujhe ahsaas hota hai…


Spread the love

Leave a Comment