Heart Broken Shayari | हार्ट ब्रोकन शायरी 2 line

Spread the love

In this page you will read broken heart Shayari, broken shayari 2 line, night broken Shayari, broken Shayari in Hindi etc…

Heart Broken Shayari

Broken Shayari

ना जिंदगी साथ दे रही है, ना अपने आवाज दे रहे हैं
कभी जिनके थोड़ा करीब थे, अब वो भी नाराज हो रहे हैं…
Na jindagi saath de rahi hai, na apne aavaaj de rahe hain …
Jinke thoda kareeb the, ab vo bhi naaraaj ho rahe hain…

कुछ खोकर कुछ पाना चाहता था, मुस्कुराना पड़ा जब जब रोना चाहता था…
महज एक याद बनकर रह गया, वो शख्स जिसका मैं होना चाहता था…
Kuchh khokar kuchh paana chaahata tha, muskuraana pada jab jab rona chaahata tha…
Mahaj ek yaad banakar rah gaya, vo shakhs jiska main hona chaahata tha…

वो साथ में कसमें खाने वाला, ना जाने अब कहां है…
उतना प्यार तो होठों पर नहीं था, जितना आंखों से बहा है…
Vo saath mein kasmen khaane vaala, na jaane ab kahaan hai…
Utna pyaar to hothon par nahin tha, jitana aankhon se baha hai…

उसे मैं अपना बनाना चाहता था, उसके कानों में धीरे कुछ कहना चाहता था…
वो तब बिछड़ने की जिद कर बैठे थे, जब मैं उसके साथ रहना चाहता था…
Use main apana banana chaahata tha, uske kaanon mein dheere kuchh kahana chaahata tha…
Vo tab bichhadne ki jid kar baithi thi, jab main uske saath jeena chaahata tha…

मैं जहां भी जाता हूं, मुझमें उन्ही तुम्हें को पाता हूं…
जितना उनसे दूर रहने की सोचता हूं, उतना ही उनके करीब चला जाता हूं…
Main jahaan bhi jaata hoon, mujhmen sirf tumhen ko paata hoon…
Jitna tumse door rahne ki sochata hoon, utaa hi tumhare kareeb aa jaata hoon…

Broken Shayari In Hindi

Broken Shayari

ऐसा नहीं है के मैं किसी के साथ रहना नहीं चाहता…
बस किसी और को खुश करने के लिए, अब मैं रोना नहीं चाहता…
Aisa nahin hai ke main kisi ke saath rahana nahin chaahata…
Bas kisi aur ko khush karne ke lie, ab main rona nahin chaahata…

कुछ अधूरी ख्वाहिशे जीने का मतलब बताती है…
जब भी ठोकर लगती है, फिर से चलना सिखाती है…
Kuchh adhuri khwahishe jeene ka matlab sikhaati hai…
Jab bh thokar lagti hai, phir se chalna sikhati hai…

जिन आंखों को मुझ पर नजर रखना था, वो आँखें मुझसे दूर हो गई…
उसकी नजरों में मैं गुनहगार हो गया हूं, वो सबकी नजरों में बेकसूर हो गई…
Jin aankhon ko mujh par najar rakhana tha, vo aankhen mujhase door ho gayi…
Uski najar me main gunahgaar ho gaya hun, vo sabaki najaron mein bekasoor ho gayi…

पुरानी बातों को यादों से मिटा ना सका…
दिल के जख्म आज भी हरे हैं, पर किसी को दिखा ना सका…
Purani baaton ko yaadon se mita na saka…
Dil ke jakhm abhi hare hain, par kisi ko dikha na saka…

ना जाने तुम्हारी यादें मुझे कब तक सताएंगी…
तुमने तो साथ दिया नहीं, पर शायद ये मेरा साथ निभाएंगी…
Na jaane tumhari yaaden mujhe kab tak sataengi…
Tumne to saath diya nahin, par shaayad tumhari yaaden mera saath nibhaengi…

कुछ खुशियों को खुलकर जीने के लिए, उम्र भर इंतजार करना पड़ता है…
जिनके साथ जीने के ख्वाब देखते हैं, उन्हें कभी खोना भी पड़ता है…
Kuchh khushiyon ko khulakar jeene ke lie, umr bhar intajaar karana padata hai…
Jinke saath jeene ke khwaab dekhte hain, sabse pahle unheen ko khona padta hai…

Broken Shayari 2 line

Broken Shayari

मुझसे मेरे अपने खुश नहीं हैं, हो सकता है तुम भी खुश ना रहो…
पर ये मर्जी सिर्फ तुम्हारी है, तुम साथ मेरे रहो या ना रहो…
Mujhse mere apne khush nahin hain, ho sakata hai tum bhee khush na ho…
Par ye marji sirf tumhari hai, tum saath mere raho ya na raho…

मैं तुम्हें भूल चुका हूं, तुम अब मुझे याद मत आना…
जहाँ जिंदगी मेरा नाम ले रही हो, तुम वहां मुझे नजर मत आना…
Main tumhen bhool chuka hoon, tum ab mujhe yaad mat aana…
Jahaan jindagi mera naam le rahi ho, tum vahaan mujhe najar mat aana…

दूरियाँ तुम्हें भी, किसी के लिए जीना सिखाएंगी,
तुम्हारी साँसे भी तुम्हारी धड़कनों को समझाएंगी…
तुम तब समझोगे, जब सब कुछ खो चुका होगा,
तुम छूना चाहोगे, पर चाहतें तुम्हारे हाथ नहीं आएंगी…
Duriyaan tumhen bhi, kisi ke lie jeena sikhaengi,
Tumhari saanse bhi tumhari dhadkanon ko samajhaengi…
Tum tab samajhoge, jab sab kuchh kho chuka hoga,
Tum chhoona chaahoge, par chaahaten tumhaare haath nahin aaengi…

जिसे जितना चाहने लगते हैं…
वो उतना ही दूर जाने लगते हैं…
Jise jitna chaahane lagte hain…
Vo hamse utna hi door jaane lagte hain…

जख्म भरने वाला ही पीठ पीछे खंजर चला रहा है…
जबसे अकेला रहना सीखा है, सब समझ आ रहा है…
Jakhm bharane vaala hi peeth peechhe khanjar chala raha hai…
Jabase akela rahana seekha hai, sab samajh aa raha hai…

अकेले रहने वाला जिंदगी में आबाद है…
जो भीड़ से निकला ही नहीं, सिर्फ वही बर्बाद है…
Akele rahne vaala jindagi mein aabaad hai…
Jo bheed se nikala hee nahin, sirf vahi barbaad hai…

हिंदी ब्रोकन शायरी

Broken Shayari

शोर जहां ज्यादा होता है, वहां मैंने चुप रहना सीखा है…
जिसको भी अपना माना है, उसके साथ खड़ा रहना भी सीखा है…
Shor jahaan jyaada hota hai, vahaan maine chup rahna seekha hai…
Jisako bhi apna maana hai, usake saath khada rahna bhi sikha hai…

उन्हें कुछ भी कह लो, जो मोहब्बत पर ऐतबार करते हैं…
पर वो तो सौदेबाज ही हैं, जो मोहब्बत को सोच समझकर करते हैं…
Unhen kuchh bhi kah lo, jo mohabbat par aitbaar karte hain…
Par vo to saudebaaj hi hain, jo mohabbat ko soch samajhkar karte hain…

मेरी रंगीन रातों में उजालों की कमीं है…
मैं भी कुछ अधूरा हूं, शायद तुम्हारी ही कमीं है…
Meri rangeen raaton mein ujaalon ki kameen hai…
Main bhi kuchh adhura hoon, shaayad tumhari hi kameen hai…

दूसरों को देखने से पहले मैंने खुद को देखा है…
यहां कुछ अपनों को गैर और कुछ गैरों का अपना होते देखा है…
Dusaron ko dekhane se pahale maine khud ko dekha hai…
Yahaan kuchh apanon ko gair aur kuchh gairon ka apna hote dekha hai…

उनका कुछ मेरे पास है, मेरा भी उनके पास कुछ होगा…
जो मेरे दिल में दबा है, शायद उनके जहन में भी होगा..
Unka kuchh mere paas hai, mera bhee unake paas kuchh hoga…
Jo mere dil mein daba hai, shaayad unke jahan mein bhi hoga…

ना जाने कितने दिन और कितनी रातें लगेंगी…
पर मोहब्बत कभी पूरी नहीं होगी, अगर बातें बनेंगी…
Na jaane kitne din aur kitni raaten lagengi…
Par mohabbat kabhi poori nahin hogi, agar baaten banengi…

सोच समझकर

किसी को सोच समझकर अपना बनाना…
खुद को भी याद रखना, उनके लिए खुद को भूल मत जाना…
Kisi ko soch samajhakar apna banana…
Khud ko bhi yaad rakhna, unke lie khud ko bhool mat jaana…

वो ख़ुश हैं के, उन्होंने मेरी मोहब्बत को इनकार कर दिया…
उन्हें मुझसे कभी मोहब्बत नहीं किया, उसने सब कुछ साफ-साफ कर दिया…
Vo khush hain ke, unhone meri mohabbat ko inkaar kar diya…
Unhen mujhase kabhi mohabbat nahin kiya, usne sab kuchh saaf-saaf kar diya…

फासले बढ़ जाते हैं, नज़दीकियां कभी कम नहीं होती हैं…
सब कुछ सूना लगता है, जब खुशियां साथ नहीं होती हैं…
Faasale badh jaate hain, nazdikiyaan kabi kam nahin hoti hain…
Sab kuchh suna sa lagata hai, jab khushiyaan saath nahin hoti hain…

जहां लोग कम आते हैं, तुम हमेशा वहीं रहना…
मोहब्बत जब भी किसी से करना, अपनी तरफ से सही रहना…
Jahaan log kam aate hain, tum hamesha vaheen rahna…
Mohabbat jab bhee kisi se karna, apanee taraf se sahi rahna…

मैं जानता हूं, मुझमें कई खामियां हैं…
पर अगर तुम्हारा साथ होता तो शायद मुकम्मल भी हो जाता…
Main jaanata hoon, mujhmen kayi khamiyaan hain…
Par agar tumhaara saath hota to shaayad mukammal bhee ho jaata…

उन्हें मैं और मेरी मोहब्बत दोनों ही पसंद नहीं है…
और मुझमें मोहब्बत के सिवा अब कुछ भी नहीं है…
Unhe mai aur meri mohabbat dono hi pasand nhi hai
Aur mujhme mohabbat se siva ab kuch bhi nhi hai

शोर से ज्यादा

शोर से ज्यादा अब खामोशियाँ गूंजती हैं…
जिंदगी के कुछ हसीन पलों को, अब आँखें भी ढूंढती हैं..
Shor se jyaada ab khaamoshiyon gunjati hain…
Jindagi ke kuchh haseen palon ko, ab aankhen bhee dhundhati hain…

मेरी रंगीन रातों में उजालों की कमीं है…
मैं भी कुछ अधूरा हूं, शायद तुम्हारी ही कमीं है…
Meree rangeen raaton mein ujaalon kee kameen hai…
Main bhee kuchh adhoora hoon, shaayad tumhari hi kameen hai…

ना जाने कितने दिन और कितनी रातें लगेंगी…
मोहब्बत कभी पूरी नहीं होगी, अगर बातें बनेंगी…
Na jaane kitane din aur kitni raaten lagengi…
Mohabbat kabhi poori nahin hogi, agar baaten banengi…

उनका कुछ मेरे पास है, मेरा भी उनके पास कुछ होगा…
जो मेरे दिल में है, शायद उनके जहन में भी होगा…
Unka kuchh mere paas hai, mera bhi unke paas kuchh hoga…
Jo mere dil mein hai, shaayad unake jahan mein bhi hoga…

किसी को सोच समझकर अपना बनाना…
खुद को भी याद रखना, उनके लिए खुद को भूल मत जाना…
Kisi ko soch samajhkar apna banana…
Khud ko bhi yaad rakhna, unke chakkar mein bhool mat jaana…

आंखों पर पट्टी बांधकर, उसने मेरी मोहब्बत को इनकार कर दिया…
उसे मुझसे कभी मोहब्बत नहीं किया, उसने सब कुछ साफ-साफ कर दिया…
Aankhon par patti baandhkar, usne meri mohabbat ko inakaar kar diya…
Use mujhase kabhi mohabbat nahin kiya, usne sab kuchh saaf-saaf kar diya…

जनाब चारों तरफ देख के चलिए…
क्या पता कोई आपके इंतजार में बैठा हो …
Janaab chaaron taraph dekh ke chalie…
Kya pata koi aapke intajaar mein baitha ho…

2 लाइन शायरी

अपने दिल का दरवाजा हम तभी खोलेंगे
जब सामने वाला सिर्फ हमारा होगा
Apane dil ka darwaja ham tabhee kholenge
Jab saamane vaala sirf hamaara hoga

यूं तो शोर सबको सुनाई देता है
पर खामोशियां सब को सुनाई नहीं देती है…
Yun to shor sabko sunayi deta hai
Par khamoshiyaan sab ko sunyi nahin deti hai…

खुद को संभाल सको, खुद को इतना काबिल बना लो…
क्योंकि अंदर का शोर तुम्हारे अलावा किसी और को सुनाई नहीं देगा…
Khud ko sambhaal sako, khud ko itana kaabil bana lo…
Kyonki andar ka shor tumhaara alaava kisi aur ko sunaee nahin dega…

तुम्हारी नजरों से क्या सब साफ दिखाई दे रहा है…
मुझे तो मेरे ख्वाबों में, सब धुंधला दिखाई दे रहा है…
Tumhari najaron se kya sab saaf dikhayi de raha hai…
Mujhe to mere khwaabon mein, sab dhundhla dikhayi de raha hai…

सांसों के साथ

सांसों के साथ धड़कने भी तुमसे जुड़ी है मेरी…
तुम्हें खो केे कुछ पाने की ख्वाहिश नहीं है मेरी…
Saanson ke saath dhadkane bhi tumse judi hai meri…
Tumhen kho kee kuchh paane ki khwahish nahin hai meri…

मैं तुम्हें सब वापस कर दूं, ये तुम्हारा कोई अपना मुझसे कह गया है…
फिर तुम क्या लेकर गए हो, अगर सब कुछ तुम्हारा मेरे पास ही रह गया है…
Main tumhen sab vaapas kar dun, ye tumhara koi apana mujhse kah gaya hai…
Phir tum kya lekar gae ho, agar sab kuchh tumhara mere paas hi rah gaya hai…

छोटी से छोटी खुशियों में तुम्हें बुला लेता…
तुम्हारा साथ अगर मिलता, तो हर गम को भुला देता…
Chhoti se chhoti khushiyon mein tumhen bula leta…
Tumhaara saath agar milta, to har gam ko bhula deta…

बनती नहीं है अब मेरी सबसे…
खुद से भी दूर हूं, न जाने कबसे…
Banati nahin hai ab meri sabse…
Khud se bhi door hoon, na jaane kabse…


Spread the love

Leave a Comment