Shayari On Life | Life Shayari In Hindi | Life Shayari

Spread the love

In this page you will read shayari on life, hindi shayari on life, 2 line Shayari on life in hindi, best shayari on life etc..

Shayari On Life

Shayari on life

ऐ जिंदगी तू मुझे कोई भी दशा दे,
मैं खुद को उसमें ढाल सकता हूं…
तेरे दिए हुए हर एक जख्म से,
अब खुद को मैं निकाल सकता हूं…
E jindagi tu mujhe koi bhi dasha de,
main khud ko usmen dhaal sakta hoon…
Tere die hue har ek jakhm se,
ab khud ko main nikaal sakta hoon…

मैं हमेशा अपने साथ वक्त बिताता हूं,
इसलिए सही गलत में फर्क समझ पाता हूं…
इस संग-साथ की कभी परवाह नहीं किया ,
जहाँ पूरा होता हूं, बस वहीं रह जाता हूँ…
Main hamesha apane saath vakt bitata hoon,
Isilie sahi galat mein phark samajh paata hoon…
Is sang-saath kee kabhee parwaah nahin kiya ,
Jahaan poora hota hoon, bas vaheen rah jaata hoon…

Shayari on life

बस पल भर का ये सवेरा है…
ना ये मेरा था, ना ये तेरा है…
Bas pal bhar ka ye savera hai…
Na ye mera tha, na ye tera hai…

जो जिसकी खुशियों में शामिल हो रहा है, उसे उसके गम में भी उसके पास जाना चाहिए…
अपने आप को अगर दूसरों से सामने समझा सकते हो, तो तुम्हें दूसरों को समझना भी आना चाहिए…
Jo jiski khushiyon mein shaamil ho raha hai, use usake gam mein bhee usake paas jaana chaahie…
Apane aap ko agar dusaron se saamane samajha sakate ho, to tumhen dusaron ko samajhna bhi aana chaahie…

Shayari on life

मैं कितना हूं खुद में, ये खुद से हर वक्त पूछता हूं…
जहां तुम शोर सुनते हो, मैं वहां ख़ामोशी ढूंढता हूं…
Main kitna hoon khud mein, ye khud se har vakt puchhata hoon…
Jahaan tum shor sunate ho, main vahaan khaamoshi dhundhata hoon…

जब तक हम अपने साथ खड़े नहीं होंगे…
तब तक हमारी जिंदगी हमारे साथ खड़ी नहीं होगी…
Jab tak ham apne sath khade nhi honge
Tab tak hamari jindagi hamare sath khadi nhi hogi

Hindi Shayari On Life

Shayari on life

उम्मीद है मुझे वक्त मेरा भी आएगा, साथ अपने हर खुशी लाएगा…
जब लगेगा मेरे सीने से मैं पूछूंगा, अब तो तू दूर कभी नहीं जाएगा…
Ummeed hai mujhe vakt mera bhee aaega, saath apne har khushi laega…
Jab lagega mere seene se main puchhunga, ab to too door kabhi nahin jaega…

जब रास्ते नहीं मिलते, तो अपनी मजिल को याद कर लेता हूं…
अंदर शोर जब बहोत ज्यादा होता है, खुद से बात कर लेता हूं…
Jab raaste nahin milte, to apani majil ko yaad kar leta hoon…
Andar shor jab bahot jyaada hota hai, khud se baat kar leta hoon…

Shayari on life

जिन रास्तों पे मंजिलें नहीं मिलती हैं…
उन रास्तों पे चलने का मजा ही कुछ और है…
Jin raaston pe manjilen nahin milti hain…
Un raaston pe chalne ka maja hee kuchh aur hai…

अकेले चलने की आदत रखना, कभी भीड़ में मत निकला…
तुम्हारे साथ वाले अगर बदल जाएं, उन्हें देख के तुम खुद को मत बदला…
Akele chalne ki aadat rakhna, kabhi bheed mein mat nikla…
Tumhare saath vaale agar badal jaen, unhen dekh ke tum khud ko mat badala…

Shayari on life

ना ही कोई गम है, ना ही कोई खुशी है…
यूँ चुप रहने को आदत मुझे बरसों से लगी है…
Na hi koi gam hai, na hee koi khushi hai…
Yun chup rahne ko aadat mujhe barason se lagi hai…

जिंदगी में अंधेरा है तो क्या हुआ, सुबह का सूरज भी निकलेगा…
बस खुद को तरसते रहना है, जिसका जितना है उसी को मिलेगा…
Jindagi mein andhera hai to kya hua, subah ka sooraj bhi niklega…
Bas khud ko tarsate rahna hai, jiska jitna hai usi ko milega…

2 line Shayari On Life in Hindi

Shayari on life

किसी और के लिए अपने क़दमों को नहीं मोड़ना चाहिए…
खुशी हमें मिले या ना मिले, कभी अपना साथ नहीं छोड़ना चाहिए…
Kisi aur ke lie apne qadmon ko nahin modna chaahie…
Khushi hamen mile ya na mile, kabhi apna saath nahin chhodana chaahie…

शराफत जिसमें है उसे बेवक़ूफ़ का नाम दिया जाता है, पैसों के दम पर लोगों का मुँह बंद किया जाता है….
और पलट के जो कभी किसी को जवाब नहीं देते, उन्हीं के साथ यहां सब कुछ किया जाता है…
Sharafat jismen hai use bewaqoof ka naam diya jaata hai, paison ke dam par logon ka munh band kiya jaata hai….
Aur palat ke jo kabh kisi ko javaab nahin dete, unheen ke saath yahaan sab kuchh kiya jaata hai…

Shayari on life

हर रिश्ते में थोड़ी बहोत बहस होगी…
पर वो रिश्ता कभी आगे नहीं बढ़ेगा, जिसके आगे Self Respect खड़ी होगी…
Har rishte mein thodi bahot bahas hogi…
Par vo rishta kabhi aage nahin badhega, jiske aage self respect khadi hogi…

दूसरों को बुरा भला बोलने से पहले, अपने अंदर भी झाँक के देखना…
उसकी तकलीफ तुम्हें नजर आएगी, कभी उसकी जगह पे खुद को रख के देखना…
Dusaron ko bura bhala bolne se pahle, apane andar bhee jhaank ke dekhana…
Usaki takleef tumhen najar aaegi, kabhi usaki jagah pe khud ko rakh ke dekhana…

Shayari on life

हालात कैसे भी हों, जैसे हो दूसरों को वैसे ही दिखना…
सबके साथ खुश रहना, पर अपनी लकीरों में किसी और की किस्मत को जबरजस्ती मत लिखना…
Haalaat kaise bhi hon, jaise ho dusaron ko vaise hi dikhna…
Sabke saath khush rahna, par apani lakeeron mein kisi aur ki kismat ko jabarjasti mat likhna…

Deep Shayari On Life

Shayari on life

अपनी खुशियों को छोड़ के, जो दूसरों के गमों में शामिल होता है…
अक्सर मैंने उन्हीं को अपने आप से रूठते हुए देखा है…
Apani khushiyon ko chhod ke, jo dusaron ke gamon mein shaamil hota hai…
Aksar maine unheen ko apane aap se ruthate hue dekha hai…

जिनकी खुशियों के बारे में सोचो, वही हमें नोच लेते हैं…
वो जख्म कभी भरते नहीं हैं, जिन्हें अपने खरोच देते हैं…
Jinaki khushiyon ke baare mein socho, vahee hamen noch lete hain…
Vo jakhm kabhi bharte nahin hain, jinhen apane kharoch dete hain…

जिंदगी से बहोत कुछ माँगा था, सबकुछ नहीं मिला…
फिर भी मैं खुश हूं, नहीं है मुझे किसी से कोई गिला…
Jindagi se bahot kuchh maanga tha, sabakuchh nahin mila…
Phir bhi main khush hoon, nahin hai mujhe kisi se koee gila…

मेरी ख्वाहिशें मेरी सुबह हैं, मैं अगर रात हूं…
बस वो लोग मुझसे खुश रहे, मैं जिनके साथ हूं…
Meri khwaahishen meri subah hain, main agar raat hoon…
Bas vo log mujhse khush rahe, main jinke saath hoon…

ख्वाबों की आड़ में, कभी हकीकत को नहीं भूलना चाहिए…
कोई अपनी जान लेने पे आ जाए, जिंदगी तुझे इतना ब्याज नहीं वसूलना चाहिए…
khwaabon ki aad mein, kabhi hakikat ko nahin bhulna chaahie…
Koi apni jaan lene pe aa jae, jindagi tujhe itna byaaj nahin vasulna chaahie…

जो चेहरे हमेशा हस्ते होंगे,
उनके दिलों में राज बहोत गहरे होंगे…
Jo chehare hamesha haste honge,
Unke dilon mein raaj bahot gahare honge…

शायरी ऑन लाइफ इन हिंदी

जब कोई ख्वाब टूटता है, तो आँखें रोती हैं…
कोई रिश्ता जब ख़तम होता है, गलती दोनों तरफ से होती है…
Jab koi khwaab tootata hai, to aankhen roti hain…
Koi rishta jab khatam hota hai, galti donon taraf se hoti hai…

तेरे ही हाथों में है तेरी किस्मत का सच…
किसी को देख के अपने आप को कम मत समझ…
Tere hi haathon mein hai teri kismat ka sach…
Kisi ko dekh ke apne aap ko kam mat samajh…

हालातों से लड़ते-लड़ते, तू क्यूँ रोता है…
जो कुछ भी होता है, सब अच्छे के लिए होता है…
Haalaton se ladte-ladte, tu kyun rota hai…
Soch ! jo kuchh bhi hota hai, sab achchhe ke lie hota hai…

आगे बढ़ने के लिए, तू दूसरों को भी अपना हाथ दे…
बाकी सब कुछ छोड़ दे, बस मोहब्बत का साथ दे…
Aage badhne ke lie, tu dusaron ko bhi apna haath de…
Baaki sab kuchh chhod de, bas mohabbat ka saath de…

तुझमें अकेले चलने का हुनर है, तो किसी के आगे मजबूर नहीं होगा…
जब तक तेरी खुशियाँ तेरे हाथ में हैं, तब तक तू खुद से दूर नहीं होगा…
Tujhmen akele chalne ka hunar hai, to kisi ke aage majboor nahin hoga…
Jab tak teri khushiyaan tere haath mein hain, tab tak too khud se door nahin hoga…

कभी उनसे दूर मत भागना, जो तुम्हारे करीब आते हैं…
सिर्फ उनकी इज्जत करना, जो तुम्हें तुम्हारे मुँह पे बोल के जाते हैं…
Kabhi unase door mat bhagna, jo tumhare kareeb aate hain…
Sirf unaki ijjat karana, jo tumhen tumhare munh pe bol ke jaate hain…

हिंदी शायरी लाइफ

जब हालात बुरे होते हैं, तब कोई किसी के साथ रहना नहीं चाहता…
अपनी लड़ाई हमें खुद ही लड़नी पड़ेगी, क्योंकि कोई किसी से पीछे रहना नहीं चाहता…
Jab haalaat bure hote hain, tab koi kisi ke saath rahna nahin chaahata…
Apani ladayi hamen khud hee ladani padegi, kyonki koi kisi se peechhe rahna nahin chaahata…

लोग अच्छाइयों से ज्यादा, बुराइयों को याद रखते हैं…
खंजर भी वही चलाते हैं, पीठ पे जो हाथ रखते हैं…
Log achchhaiyon se jyaada, buraiyon ko yaad rakhte hain…
Khanjar bhee vahi chalaate hain, peeth pe jo haath rakhte hain…

छोटे घरों में लोग बड़े हैं…
हालात जैसे भी हों, सब एक साथ खड़े हैं…
Chhote gharon mein log bade hain…
Haalaat jaise bhi hon, sab ek saath khade hain…

अकेले रहने की आदत पड़ जाए तो अच्छा है,
किसी की जरुरत पड़ेगी तो खुद को समझाना पड़ेगा…
Akele rahane ki aadat pad jae to achchha hai,
Kisi ki jarurat padegi to khud ko samjhana padega…

जब तक हम अपने साथ खड़े नहीं होंगे…
तब तक हमारी जिंदगी हमारे साथ खड़ी नहीं होगी…
Jab tak ham apne saath khade nahin honge…
Tab tak hamari jindagi hamare saath khadi nahin hogi…

अकेले रहने की आदत पड़ जाए तो अच्छा है,
किसी की जरुरत पड़ेगी तो खुद को समझाना पड़ेगा…
akele rahane kee aadat pad jae to achchha hai,
kisee kee jarurat padegee to khud ko samajhaana padega…

Life Shayari in Hindi

अपनी जिंदगी से मैंने एक चीज सीख सीखी है
के जब तक तुम खुद के नहीं हो, तुम्हारा कोई नहीं है
Apani jindagi se maine ek cheej seekh seekhee hai
Ke jab tak tum khud ke nahin ho, tumhara koi nahin hai

किसी भीड़ में मैं कभी नहीं चल सकता,
जहाँ मैं पूरा ना रहूं, वहां नहीं रह सकता…
ये फिजाओं की रौशन तुम्हारे लिए बनी है
मुझे घुटन होता हैं, मैं इनमें नहीं रह सकता…
Kisi bheed mein main kabhi nahin chal sakta,
Jahaan main poora na rahoon, vahaan nahin rah sakta
Ye phijaon kee raushan tumhaare lie banee hai
Mujhe ghutan hota hain, main inamen nahin rah sakta

ना ही पूरा हुआ हूँ, ना ही अधूरा हूं…
बस उन्ही लोगों में हूँ, जिनमें पूरा हूँ…
Na hi poora hua hoon, na hee adhura hoon…
Bas unhi logon mein hoon, jinmen poora hoon…

क्या फर्क पड़ता है, बांह किसके लिए कितना तड़पी है…
खुद की परछाई भी तो तभी दिखती है, जब धूप पड़ती है…
Kya fark padta hai, baanh kiske lie kitna tadpi hai…
Khud ki parachhayi bhi to tabhi dikhati hai, jab dhoop padatee hai…

चार लोगों की भीड़ में बैठे कर, बेवकूफ बनने से अच्छा है,
अकेले रह कर किसी चीज को पाने के लिए पागल बन जाओ…
Chaar logon ki bheed mein baithe kar, bewakoof banne se achchha hai,
Akele rah kar kisi cheej ko paane ke lie paagal ban jao…


Spread the love

Leave a Comment