50+ Best Urdu Shayari | 2 Line Urdu Shayari | उर्दू शायरी

Spread the love

In this page you will read urdu Shayari, urdu love Shayari, urdu sad Shayari, urdu Shayari in hindi, urdu Shayari 2 line, urdu English Shayari etc…

Urdu Shayari

Urdu Shayari

मेरी धड़कनों पे हक़ है तुम्हारा, ये दिल मेरा मुझसे ये बार-बार कहता है
जो खूबसूरत पल मैं तुम्हारे साथ बिताता हूँ, वो उम्र भर मेरे साथ रहता है
Meri dhadkanon pe haq hai tumhara, ye dil mera mujhse ye baar-baar kahta hai
Jo khoobsurat pal main tumhare saath bitata hun, vo umr bhar mere saath rahta hai

हम जितना वक्त देंगे, चाहतें उतनी ही निखर के आएंगी
मैं तुम्हारे साथ, तुम मेरे साथ, ये उम्र यूँही बीत जाएगी
Ham jitna vakt denge, chahaten utni hi nikhar ke aaengi
Main tumhare saath, tum mere saath, ye umr yunhi beet jaegi

मेरी धड़कन बनके, तुम मेरे सीने में धड़कना…
ये उम्र बीत जाए, तुम मेरा हाथ ऐसे पकड़ना…
Meri dhadakan banke, tum mere seene mein dhadkana…
Ye umr beet jae, tum mera haath aise pakadna…

जहां तक तुम चाहोगे, मेरा हर एक कदम तुम्हारे साथ चलेगा…
तुम अगर मेरे दिल पे हाथ रखोगे, तो मेरी धड़कनों को सुकून मिलेगा…
Jahaan tak tum chaahoge, mera har ek kadam tumhare saath chalega…
Tum agar mere dil pe haath rakhoge, to meri dhadaknon ko sukoon milega…

मैं तुम्हें अपना कह सकूँ, मेरी मोहब्बत को बस इतना हक़ दो…
मेरी चाहतें नजदीकियाँ बढ़ाना चाहती हैं, तुम दूरियाँ ना दो…
Main tumhen apna kah sakun, meri mohabbat ko bas itna haq do…
Meri chahaten najadikiyaan badhana chaahati hain, tum duriyaan na do…

Urdu Love Shayari

Urdu Shayari

जब मेरा चाँद मुझे नजर आया करे,
वक्त से कहो थोड़ा ठहर जाया करे…
Jab mera chaand mujhe najar aaya kare,
Vakt se kaho thoda thahar jaaya kare…

वो मेरे जीने की वजह बनके, मेरे साथ रहती है
मैं आसमां बना हूँ, वो मुझमें चाँद की तरह रहती है
Vo mere jeene ki vajah banke, mere saath rahati hai
Main asamaan bana hoon, vo mujhmen chaand ki tarah rahati hai

जैसे मैं तुम पे अपना हक़ जताता हूँ,
मैं चाहता हूँ तुम भी मुझपे अपना हक़ जताओ….
Jaise main tum pe apna haq jatata hun,
Main chahata hun, tum bhi mujhpe apna haq jatao….

तुम्हारे बगैर हम वक्त गुजारते तो हैं
पर तुम तो जानते ही हो, हम तुम्हारे ही तो हैं
Tumhare bagair ham vakt gujarate to hain
Par tum to jaanate hi ho, ham tumhare hi to hain

हमारी मोहब्बत की मिसालें दे रहे होंगे…
वो जोड़ियाँ बनाने वाले लोग, हमें ऊपर से देख रहे होंगे…
Hamari mohabbat ki misaalen de rahe honge…
Vo jodiyaan banane vaale log, jab hamen upar se dekh rahe honge…

2 Line Urdu Hindi Shayari

Urdu Shayari

तुम्हें देखने के लिए, मैं खुद को रोकता हूँ
सब अच्छा लगता है, जब तुम्हें सोचता हूँ
Tumhe dekhne ke liy, mai khud ko rokta hun
Sab achcha lagta hai, jab tumhe sochta hun

मैं जब तुम्हें देखता हूँ, मेरे दिल को सुकून मिलता है
मेरी मोहब्बत भी शायद तुम्हारे लिए एक राहत होगी…
तुम भी मोहब्बत को अपनी आदत बना बैठे हो,
मतलब तुम्हारे दिल में भी चाहतें बहोत ज्यादा होंगी…
Main jab tumhen dekhta hun, mere dil ko sukoon milata hai
Meri mohabbat bhi shaayad tumhare lie ek raahat hogi..
Tum bhi mohabbat ko apni aadat bana baithe ho, matlab tumhare dil mein bhi chaahaten bahot jyaada hongi..

मेरी मोहब्बत में क्या तुम, जहां देखते हो…
मैं तुम्हें ही देखता हूँ, तुम कहां देखते हो…
Meri mohabbat mein kya tum, jahan dekhate ho…
Main tumhen hi dekhta hun, tum kahaan dekhate ho…

क्या वजह है, मेरी चाहतों को तुम जो इतना सताती हो…
जब कभी नजरें मिलती हैं, तुम नजरें क्यूँ चुराती हो…
Kya vajah hai, meri chaahaton ko tum jo itna satati ho…
Jab kabhi najren milti hain, tum najren kyu churati ho…

मैं अपने आसमां का, एक तुम्हीं को अपना चाँद बताता हूं…
सच तो ये है के खुद को तुमसे दूर करके, मैं अपने आप को सताता हूं…
Main apne aasamaan ka, ek tumheen ko apna chaand batata hoon…
Sach to ye hai ke khud ko tumse door karke, main apne aap ko satata hoon…

Sad Urdu Shayari

Urdu Shayari

जो तुम्हारे साथ अहसास हुआ, फिर वो मैंने महसूस नहीं किया…
हाँ मैं तुमसे दूर जरूर हुआ हूँ, पर तुम्हें खुद से दूर नहीं किया…
Jo tumhare saath ahasaas hua, phir vo maine mahsoos nahin kiya…
Haan main tumse door jaroor hua hun, par tumhen khud se door nahin kiya…

जिसे मोहब्बत समझते थे, वो बस एक सजा निकली
जीने की वजह भी देखो, बेवजह निकली
Jise mohabbat samajhte the, vo bas ek saja nikali
Jeene ki vajah bhi dekho, bevajah nikali

क्या खफा हो, जो बात नहीं करते,
या कोई गैर हूँ, जो याद नहीं करते…
Kya khafa ho, jo baat nahin karte,
Ya koi gair hoon, jo yaad nahin karte…

तुम्हें अपनी लकीरों में भी कैद करता, अगर मेरे हाथों में तुम्हारे हाथ होते…
ये वक्त हमारे खिलाफ ना होता, तो शायद हम भी आज साथ होते…
Tumhen apni lakeeron mein bhi kaid karta, agar mere haathon mein tumhaare haath hote…
Ye vakt hamare khilaaf na hota, to shayad ham bhi aaj saath hote…

मेरी चाहतों में कौन है, वो मुझसे ये सवाल पूछते हैं…
बताओ मैं उनसे क्या कहूं, जो मुझसे तुम्हारा नाम पूछते हैं…
Meri chaahaton mein kaun hai, vo mujhse ye savaal poochhate hain… Batao main unse kya kahoon, jo mujhse tumhara naam poochhate hain…

उर्दू शायरी

1667925590129

कौन कैसा है मैं नहीं जानना चाहता…
बस जो मेरे साथ हैं, मैं उन्हें नहीं खोना चाहता…
Kaun kaisa hai main nahin janana chahata…
Bas jo mere saath hain, main unhen nahin khona chaahata…

ना मैं किसी से खफा हूं, ना ही मुझे किसी से कोई गिला है…
बस अब उन चीजों के साथ वक्त बिताना चाहता हूं, अब तक जितना मुझे मिला है…
Na main kisi se khafa hoon, na hi mujhe kisi se koi gila hai…
Bas ab un cheejon ke saath vakt bitaana chaahata hoon, ab tak jitna mujhe mila hai…

तू ना मिला, तो तेरा इंतजार कर लिया,
अब तेरी तन्हाइयों से मैंने प्यार कर लिया…
Tu na mila, to tera intajaar kar liya,
Ab teri tanhaiyon se maine pyaar kar liya…

मोहब्बत भी कर के देख लिया, कुछ हासिल नहीं हुआ…
मैं सिर्फ उसी का हो के रह गया, जो मेरा कभी नहीं हुआ…
Mohabbat bhi kar ke dekh liya, kuchh haasil nahin hua…
Main sirf usi ka ho ke rah gaya, jo mera kabhi nahin hua…

तुम्हारे बाद, फिर मैंने कुछ और नहीं पाया,
दिल में तुम्हारे सिवा कोई और नहीं आया…
मेरी चाहतों को तुम अब अपने नाम कर लो,
इन्हें तुम्हारे बगैर कभी कहीं चैन नहीं आया…
Tumhare baad, phir maine kuchh aur nahin paaya,
Dil mein tumhare siva koi aur nahin aaya…
Mero chaahaton ko tum ab apne naam kar lo,
Inhen tumhare bagair kabhi kaheen chain nahin aaya…

कुछ गम

Urdu Shayari

कुछ गम मेरे साथ हैं, ये दिल मेरा भी खुश नहीं है…
तेरे जाने के बाद अहसास हुआ, के अब बाकी मुझमें कुछ नहीं है…
Kuchh gam mere saath hain, ye dil mera bhi khush nahin hai…
Tere jaane ke baad ahsaas hua, ke ab baaki mujhmen kuchh nahin hai…

हम भी कोई गीत गुनगुनाते, तुम्हारी चाहतों में अगर पनाह लेते…
शाम बन के तुम्हीं में ढल जाते, सुबह उठते और तुम्हारा नाम लेते…
Ham bhi koi geet gungunate, tumhari chaahaton mein agar panaah lete…
Shaam ban ke tumheen mein dhal jaate, subah uthte aur tumhaara naam lete…

तुम मेरे करीब हो, तुम्हें और करीब करता,
तुम ग़ुरूर ना करते, तो मैं और तारीफ करता…
मिलते एक रोज और हम एक हो जाते,
फिर तुम कहीं जाते, तो मैं भी साथ चलता…
Tum mere kareeb ho, tumhen aur kareeb karata,
Tum guroor na karte, to main aur taareef karta…
Milte ek roj aur ham ek ho jaate, phir tum kaheen jaate, to main bhi saath chalta…

जो गम मिले तो उनकी खैर नहीं है…
मेरी कोई भी खुशी तेरे बगैर नहीं है…
अपनी सारी दुआएं में तुझे शामिल किया
तू मेरा अपना है, कोई गैर नहीं है…
Jo gam mile to unaki khair nahin hai…
Meri koi bho khushi tere bagair nahin hai…
Apani saari duaen mein tujhe shaamil kiya
Tu mera apna hai, koi gair nahin hai…

तेरी यादों को हम भी कभी छुआ करते थे
अपनी दुआओं में, तेरे लिए दुआ करते थे…
इतना हम कभी खुद के ना हो सके
जितना हम तेरे कभी हुआ करते थे
Teri yaadon ko ham bhee kabhi chhua karte the
Apani duaon mein, tere lie dua karte the…
Itna ham kabhi khud ke na ho sake
Jitna ham tere kabhi hua karte the

Urdu love Shayari

हर रोज तुम्हारे लिए रब से दुआ मांगता हूं…
क्या करूं, मैं सिर्फ तुम्हें को तो जानता हूं…
Har roj tumhare lie rab se dua maangta hu…
Kya karun, main sirf tumhen ko to jaanata hun…

मेरे लिए तुम्हारा दिल भी बेकरार हो जाए…
खुदा करे तुम्हें भी किसी रोज मुझसे प्यार हो जाए…
Mere lie tumhara dil bhi bekaraar ho jae…
Khuda kare tumhen bhi kisi roj mujhse pyaar ho jae…

अपने चाहने वालों के लिए तुम थोड़ा अजीब रहो…
हममें कभी दूरी ना हो, बस मेरे इतना करीब रहो…
Apne chahne vaalon ke lie tum thoda ajeeb raho…
Ham men kabhi doori na ho, bas mere itana kareeb raho…

तुमसे अलग होके किसी गैर का होना नहीं है…
पाके तुम्हें अब मुझे खोना नहीं है…
Tumse alag hoke kisi gair ka hona nahin hai…
Paake tumhen ab mujhe khona nahin hai…

मेरे हाथों में जब से तुम्हारा हाथ है…
तबसे मेरी दुआएं सिर्फ तुम्हारे साथ हैं…
Mere haathon mein jab se tumhara haath hai…
Tabse meri duaen sirf tumhare saath hain…

2 line Urdu Shayari

राहत के साथ-साथ तुमसे मेरी चाहत भी है…
तुम्हारे लिए दुआ मांगना, अब मेरी आदत भी है…
Raahat ke saath-saath tumse meri chaahat bhi hai…
Tumhare lie dua maangna, ab meri aadat bhi hai…

मेरी चाहतों को सुकून मिल जाए…
तुमसे जुड़ी मेरी सारी दुआएं अगर कुबूल हो जाए…
Meri chaahaton ko sukoon mil jae…
Tumse judi meri saari duaen agar kubool ho jae…

किसी और को तो मैं यहां ना जानता..
फिर उस रब से तुम्हें ना मांगू तो और किसी मांगू…
Kisi aur ko to main yahaan na jaanata…
Phir us rab se tumhen na maangu to aur kise maangu..

मेरे साथ, मेरी चाहतें हमेशा आबाद रहेंगी…
मेरे मरने के बाद भी मेरी दुआएं, हमेशा तुम्हारे साथ रहेंगी…
Mere saath, meri chaahaten hamesha aabaad rahengi…
Mere marne ke baad bhi meri duaen, hamesha tumhaare saath rahengi…

जो जरूरी है तुम्हारी सारी ख्वाहिशें पूरी हो…
तुम्हारी भी मुझसे कभी पल भर की भी दूरी ना हो…
Jo jaroori hai tumhari saari khwahishen poori ho…
Tumhari bhi mujhse kabhi pal bhar ki bhi doori na ho…


Spread the love

Leave a Comment